यूपी में एमएलसी की 12 सीटों पर चुनाव के लिए अधिसूचना जारी, 11 जनवरी से नामांकन, 28 जनवरी को होगी वोटिंग

0
67

उत्तर प्रदेश में 12 सीटों के एमएलसी का कार्यकाल 30 जनवरी को खत्म हो रहा है। निर्वाचन आयोग ने इस सीटों पर चुनाव की अधिसूचना जारी कर दी है। बीजेपी विधान परिषद (एमएलसी) की खाली हो रही सीटों में दस पर चुनाव लड़ेगी। बीजेपी कीी समिति ने दस सीटों के लिए 14 नामों का पैनल तैयार किया गया है। उत्तर प्रदेश की 12 विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) सीटों पर चुनाव के लिए आयोग ने अधिसूचना जारी की है। एमएलसी की इन सीटों के लिए 11 जनवरी से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। सीटों के लिए वोटिंग 28 जनवरी को होगी। यूपी में विधान परिषद की 12 सीटों का कार्यकाल 30 जनवरी को खत्म हो रहा है। 12 सीटों में चुनाव के लिए अधिसूचना जारी हुई है। अधिसूचना में कहा गया है कि 11 जनवरी से नामांकन शुरू होंगे। नामांकन की अंतिम तारीख 18 जनवरी रखी गई है। नामांकनों की जांच 19 जनवरी को होगी। 21 जनवरी तक नामांकन वापसी की प्रक्रिया होगी। वोटिंग 28 जनवरी को होगी। 29 जनवरी को रिजल्ट आएगा। 12 में छह सीटें समाजवादी पार्टी के पास 30 जनवरी को जिन एमएलसी का कार्यकाल खत्म हो रहा है उनमें समाजवादी पार्टी (एसपी) की छह सीटें हैं। वहीं बीजेपी के पास तीन और बीएसपी के पास दो सीटें हैं। एक अन्य सीट नसीमुद्दीन सिद्दीकी की भी खाली है। दस सीटों पर बीजेपी लड़ेगी चुनाव आपको बता दें कि बीजेपी विधान परिषद (एमएलसी) की खाली हो रही सीटों में दस पर चुनाव लड़ेगी। बीजेपी कीी समिति ने दस सीटों के लिए 14 नामों का पैनल तैयार किया गया है। इसकी अंतिम सूची भेजने के लिए समिति ने प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को अधिकृत किया है। डॉ. दिनेश शर्मा-स्वतंत्र देव बनेंगे दोबारा एमएलसी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में इस बात पर सहमति बन गई है कि सरकार में डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को दोबारा एमएलसी बनाया जाए। लक्ष्मण आचार्य के नाम पर भी मंथन इसके अलावा वाराणसी के रहने वाले लक्ष्मण आचार्य के नाम पर भी मंथन हुआ। इन तीनों के साथ 12 सदस्यों का कार्यकाल 30 जनवरी को समाप्त हो रहा है। बीजेपी इन्हीं में दस सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी। बीजेपी के पास दस सीटों के गणित के हिसाब से विधायकों की संख्या मौजूद है। विधायक ही इसमें वोट देंगे। संगठन को भी मिलेगा मौका चुनाव समिति ने इस बार संगठन से भी नेताओं को विधान परिषद भेजने का फैसला किया है। समिति के सामने जिन नामों पर चर्चा हुई, उनमें भाजपा के महामंत्रियों जेपीएस राठौर, गोविंद नारायण शुक्ला, अमरपाल मौर्य के नामों के साथ दलित और महिला वर्ग का प्रतिनिधित्व करने वाली प्रियंका रावत के नाम पर भी चर्चा की गई। इनमें जेपीएस राठौर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here